त्रिपक्षीय संघर्ष


  • हर्षवर्द्धन की मृत्यु के बाद भारत में तीन प्रमुख शक्तियों पाल, प्रतिहार एवं राष्ट्रकूट वंशों का उदय हुआ, जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में लंबे समय तक शासन किया। 
  • कन्नौज पर प्रभुत्व के सवाल पर उपरोक्त तीनों राजवंशों के बीच ‘8वीं शताब्दी के पूर्वार्द्ध में एक ‘त्रिपक्षीय संघर्ष’ आरंभ हुआ जो 200 वर्षों तक चला। 
  • कन्नौज गंगा व्यापार मार्ग पर स्थित था और रेशम मार्ग से जुड़ा था। इससे कन्नौज रणनीतिक और व्यावसायिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण बन गया था।
  • कन्नौज उत्तर भारत में हर्षवर्धन के साम्राज्य की तत्कालीन राजधानी भी थी।
  • यशोवर्मन ने कन्नौज में 730 ईस्वी के आसपास साम्राज्य स्थापित किया।
  • वह वज्रायुध, इंद्रायुध और चक्रायुध नाम के तीन राजाओं का अनुगामी बना जिन्होंने कन्नौज पर 8वीं सदी के अंत से 9वीं शताब्दी के पहली तिमाही तक राज किया था।
  • दुर्भाग्य से, ये शासक कमजोर साबित हुए और कन्नौज की विशाल आर्थिक और सामरिक क्षमता का लाभ लेने के लिए कन्नौज के शासक, भीनमल (राजस्थान) के गुर्जर-प्रतिहार, बंगाल के पाल और बिहार तथा मान्यखेत (कर्नाटक) के राष्ट्रकूट एक दूसरे के खिलाफ युद्ध करते रहे।
  • इस संघर्ष में भाग लेने वाले पहले शासकों में वत्सराज (प्रतिहार वंश), ध्रुव (राष्ट्रकूट वंश) एवं धर्मपाल (पाल वंश) थे।
  • यह संघर्ष प्रतिहार शासक द्वारा बंगाल-विजय करने एवं राष्ट्रकूट शासक से धिरने की घटनाओं के साथ आरंभ हुआ। 
  • अंतत: इस संघर्ष में प्रतिहार वंश विजयी रहा। प्रतिहारों की ओर से मिहिरभोज, राष्ट्रकूटों की ओर से कृष्णा-III एवं पालों की ओर से नारायण पाल त्रिपक्षीय संघर्ष के अंतिम चरण में शामिल हुए। 
  • प्रतिहार नरेश मिहिरभोज ने कृष्णा-III एवं नारायणपाल को हराकर कन्नौज पर अधिकार कर लिया तथा उसे अपनी राजधानी बनाया।

अधिक जानकारी के लिए Audio Notes सुनें –

211 पेज़ की ई-बुक निशुल्क Download करें



Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top